नन्हे-मुन्ने बच्चों के हाथों में किताबों की जगह थमा दी झाड़ू

Read Time:2 Minute, 9 Second

नन्हे-मुन्ने बच्चों के हाथों में किताबों की जगह थमा दी झाड़ू

पिट गया शिक्षा व्यवस्था का दिवाला

स्कूल परिसर की साफ सफाई करते हैं देश के नौनिहाल

स्कूल का हेडमास्टर भी लगा रहा है झाड़ू

स्कूल का कट चुका है बिजली का कनेक्शन गर्मी में बेहाल है छात्र

खारा पानी पीने को विवश है देश के भविष्य

शिक्षा मंत्री शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने के लाख दावे करें लेकिन धरातल में उनके दावों की हकीकत कुछ और ही है इसका ताजा उदाहरण है बावल खंड के गांव  कालडावास ,जहां प्राथमिक पाठशाला में देश का भविष्य कहे जाने वाले बच्चे साफ सफाई का कार्य कर रहे हैं जिन नन्हे-मुन्ने बच्चों के हाथों में किताबें होनी चाहिए वहां उनके हाथों में झाड़ू पकड़ाई जा रही है यही नहीं इस स्कूल के मुख्य अध्यापक भी  सफाई कर्मी की तरह झाड़ू निकाल रहे हैं क्योंकि स्कूल में काफी दिनों से सफाई कर्मचारी की नियुक्ति ही नहीं हुई ऐसे में गुरु व शिष्य मिलकर झाड़ू निकाल कर शिक्षा व्यवस्था की पोल खोल रहे हैं यही नहीं स्कूल में बिजली का कनेक्शन बिजली का बिल नहीं भरने के कारण काफी समय से कटा हुआ है ऐसे में पसीने से तर होकर नौनिहाल शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं रही बात स्वच्छ पानी पीने की तो स्कूल के बच्चे खारा पानी पीने को विवश हैं इतना होने के बावजूद सरकार शिक्षा व्यवस्था को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रही है लेकिन धरातल में तस्वीर कुछ और ही है

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Previous post स्कूल का सितम , बच्चे बैठे धरने पर
Next post प्रज्ञ से महाप्रज्ञ सचमुच गागर में सागर –अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री दिल्ली*